Setu Bandhan Yojana: अरुणाचल में एक साथ सात पुलों को मिली मंजूरी, अरुणाचल सरकार ने किया दावा और बोले सभी को मिलेगा रोजगार

Setu Bandhan Yojana : सरकार की तरफ से बुनियादी सिलसिले को आगे बड़ाते हुवे सरकार ने एक साथ 7 पुलों का निर्माण के लिए प्रस्ताव मंजूरी दे दी है जिसके कारण रोजगार से सम्बंदित और विकाश भी काफी तेजी से होगा जिसके कारण लोगो काफी सुविधा मिलेगा, जिसके कारण रोजगार के लिए किसी भी व्यक्ति को दर बदर भटकना नही होगा.

Telegram Group Join Now

सरकार ने अपनी योजना के तहत सरकार ने एक साथ 7 पुल के निर्माण के लिए मंजूरी दे दी है जिसके कारण अर्थव्यवस्था में काफी बहूत विकाश के साथ रोजगार भी मिलेगा और सरकार की इस नई योजना में सभी 7 पुल अरुणाचल प्रदेश से प्रारंभ होगा  जिसमे सभी जगह से आवा गमन होगा और रोजगार में बृद्धि होगी  और छेत्रिय अर्थव्यवस्था में विकाश के साथ साथ  रोजगार की व्यवस्था भी होगा.

यदि आप अर्थवयवस्था  को  आगे बड़ाना चाहते है तो आप इस आर्टिकल को पूरा पड़ना होगा और साथ ही साथ आपको इस योजना के तहत रोजगार भी मिलेगा और साथ ही आपके अर्थव्यवस्था में वृद्धि होगी जिससे आपके रोजगार में बड़ावा होगा और आप मोटी  से मोटी रकम को कमा  सकते है .

Setu Bandhan Yojana : किन पुलों को निर्माण के लिए मिली मंजूरी ?

हम आपको बता दे की सरकार के इस नियम के तहत अर्थव्यवस्था को बड़ाव देने के साथ साथ रोजगार में वृद्धि देने के लिए इस योजना को पास किया गया है .इस योजना में आपके लिए 7 पुल पास किया गया है जिसमे से 7 पुलों को निर्माण के लिए मंजूरी दे दी गयी है और पुल को जोड़ने की बात करे तो पहले लाचंग में पाचा नदी पर आरसीसी ब्रिज, इसी नदी पर गोआंग को डोंगियांग गांव से जोड़ने वाला आरसीसी ब्रिज और एक राष्ट्रीय राजमार्ग पर तीन पुलों के निर्माण के लिए तैयार है जिसके इन सभी पुलों के लिए जल्द से जल्द काम को चालू किया जायेगा और सभी पुल आरसीसी पुल बनेगे .

सिगेन नदी पर पिक्टे पॉइंट पर आरसीसी पुल क्यों बनाया जायेगा ?

सिगेन नदी पर पिक्टे पॉइंट पर आरसीसी पुल इस लिए बनाया जा रहा है क्यों की यह नदी काफी बड़ी है जिसके कारण इस नदी को आरसीसी बनाया जायेगा और इसके अलावा लोअर सियांग जिले में कोयू-गोये रोड पर ताबिरिपो साकू गांव को जोड़ने के लिए सिगेन नदी पर पिक्टे पॉइंट पर आरसीसी पुल, पूर्वी सियांग जिले में मेबो-ढोला रोड पर न्गोपोक नदी पर आरसीसी पुल बनाया जायेगा .

Setu Bandhan Yojana: 7 पुलों को कहाँ से जोड़ा जायेगा.

  • लचांग में पाचा से लेकर लाईमोया ,नेरेवा ,सोरोवा गावं को जोड़ता है और वही इस पुल को आरसीसी के साथ स्टील मटेरियल का इस्तेमाल किया जायेगा.
  • दूसरा पुल पूर्वी कामेंग जिले से लेकर गोआंग डोनिगावं को जोड़ता है ,जिसके कारण इसे आरसीसी पुल बनाया जायेगा .
  • वहीँ 3 पुल की बात करे तो यह नह NH-313 निचले दिबांग के NHPC से लेकर चिदू गावं तक बनाया जायेगा.
  • पश्चिम जिले से  खसरा गावं से लेकर कम्पोजिट पुल तक जोड़ा गया है.
  • सियांग जिले में कोयू-गोये रोड से लेकर सिंगेन नदी तक फैली है.
  • पूर्वी सियांग जिले से लेकर न्गोपोक नदी तक जोड़ा गया है.
  • 7 पुल की बात करे तो तो 7वा पुल सुबनसिरी जिले से लेकर पन्योर नदी को जोड़ा गया है.

सेतु बन्धन योजना का क्या लाभ है ?

सेतु बन्धन योजना का निम्न लाभ है .

  • इस योजना के तहत रोजगार में वृद्धि होगा .
  • इस योजना के तहत अर्थव्यवस्था में बहूत विकाश होगा.
  • इस योजना के तहत सभी पुल आरसीसी के साथ स्टील भी प्रयोग किया जायेगा .
  • यह सभी पुल अरुणाचल प्रदेश से प्रारम्भ होंगे .
  • इस योजना में 7 पुल के लिए करीब 118.50 लाख रूपए का खरच करके इस पुल को बनाया  जायेगा .

सेतु बन्धन योजना का क्या उद्देश्य है ?

इस योजना का मेन उदेश्य है रोजगार को बड़ना है और साथ ही साथ अर्थव्यवस्था में बहूत विकाश होगा .जिसके कारण लोग को रोजगार के  लिए कहीं भटकना नही होगा और रोजगार में काफी वृद्धि होगी और भुखमरी भी दूर होगा जिससे लोग बहूत पैसा कमा कर अच्छे से अच्छे जीवन यापन कर सकते है. और बहूत से कॉलेज और हॉस्पिटल खुलेंगे जिसके कारण आर्थिक व्यवस्था में वृद्धि होगी .

इसे भी पढ़े :-Grameen Nyay Awas Yojana 2024: छत्तीसगढ़ सरकार दे रही है सभी को घर की सुविधा भी दे रही है जानिए कैसे करना है आवेदन

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment