Sakshi Malik : साक्षी मालिक ने हमेशा के लिए छोड़ा कुस्ती, जानिए क्या वजह थी ?

Sakshi Malik : दोस्तों साक्षी मलिक को आप सभी लोग अच्छे तरह से जानते हो ये भारत की मशहूर खिलाडी है । जो की भारत के लिए कुछ समय पहले ही मैडल जीता था। जो की इन दिनों इंटरनेट पर काफी तेजी से वायरल हो रही है। इन दिनों साक्षी मालिक सोशल मीडया के सभी प्लेटफॉर्म पे कुछ दिनों से सुर्खिया मे है क्योंकि उन्होंने कुस्ती को अलविदा बोल दिया है । इन्होने इतना बड़ा कदम कैसे और क्यों उठाया? अगर आप जानना चाहते है तो हमारे साथ आखिर तक बने रहे हम आपको जानकारी देंगे

Telegram Group Join Now
Sakshi Malik

साक्षी मालिक कौन है ?

Sakshi Malik एक फेमस महिला पहलवान है। कुश्ती में क्षेत्र इन्होंने अपना काफी योगदान दिया है और प्रभावशाली छाप छोड़ा है। साक्षी मलिक का जन्म हरियाणा के रोहतक जिले के मोखरा गांव में 3 सितंबर 1992 को हुआ था। आपको बता दूं कि इनके दादा सुबीर मलिक काफी महान पहलवान थे जो की अब हमारे साथ नही रहे और Sakshi Malik इनसे ही प्रेरित हो कर पहलवानी सीखी है । साक्षी ने बचपन से ही कुश्ती की ओर अपना रुचि दिखाया और अपना करियर कुश्ती मे बनाने का ठानी थी की, मै अपने दादा से भी बढ़ी पलवान बनूँगी और साक्षी मालिक ने ये करके भी दिखा।

आपको जानकर हैरानी होगी कि उन्होंने महज 11 साल की उम्र में Sakshi Malik ने पहलवानी के लिए ट्रेनिंग शुरू कर दिया। उन्होंने साल 2009 में एशियाई जूनियर विश्व चैंपियनशिप में शामिल हुईं और फ्रीस्टाइल में किलो 59 किलो भार वर्ग में रजत पदक हासिल किया। अगले साल 2010 में कांस्य पदक, 2013 के कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता ।

Sakshi Malik Achievements

  • Event Medal Year Weight Class
  • Olympic Games Bronze 2016 Rio de Janeiro 59 kg
  • Commonwealth Games Gold 2022 Birmingham 62 kg
  • Commonwealth Games Silver 2014 Glasgow 58 kg
  • Commonwealth Games Bronze 2018 Gold Coast 62 kg
  • Asian Championships Bronze 2015 Doha 60 kg
  • Asian Championships Silver 2017 New Delhi 60 kg
  • Asian Championships Bronze 2018 Bishkek 62 kg
  • Asian Championships Bronze 2019 Xi’an 62 kg
  • Commonwealth Championships Bronze 2013 Johannesburg 63 kg
  • Commonwealth Championships Gold 2017 Johannesburg 62 kg
  • World Junior Championships Bronze 2010 Budapest 59 kg
  • Asian Junior Championships Silver 2009 Manila 59 kg
  • Asian Junior Championships Gold 2012 Almaty

Sakshi Malik ने किस लिए छोड़ा कुस्ती

भारतीय कुस्ती में महासंग के नये अध्यक्ष के रूप में संजय सिंह को चुना गया है, इसी बात का पर विवाद उठाया गया है भारतीय कुस्ती महासंध के पूर्व अध्यक्ष और बीजेप संसद ब्रिज्भुषण शरण सिंह के करीबी जो संजय सिंह के चुने जाने पर विवाद काफी ज्यादा बढ़ गया है ।

और इसी बात पर साक्षी मालिक(Sakshi Malik ) ने रोते हुए सोसल मीडया के सामने आई और अपना जूता रख कर कुस्ती से सन्यास लेन के लिए उठाई कदम। और ये हो भी सकता हिया की वो कुस्ती को अलविदा भी बोल दी है औउन्होंने कहा ” हम लोगो ने 40 दिनों तक सड़कों पर सोए है, रोड पर और देश के बहुत हिस्सों से बहुत सारे लोगो ने हमारा समर्थन करने के लिए आये पर इसके बावजूद हम हार गए । “

Sakshi Malik ने कहा की मैंने यह लड़ाई पुरे दिल से लड़ी थी लेकिन डब्लू ऍफ़ आई के प्रेसिडेंट ब्रिजभुषण सिंह जैसे आदमी रहेंगे गे तो हम आगे बढ़ कभी भी नही पाएंगे. बीजेपी बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि इससे मेरा लेना-देना नहीं है पर इसके बावजूद साक्षी मान नही रही है इस बात को डब्ल्यूएफआई के पूर्व प्रमुख से सवाल किया गया,

तो उनका अलग ही बयाना था कि क्या उनके खिलाफ विरोध करने वाले पहलवानों को प्रैक्टिस पर वापस लौटने को लेकर कोई समस्या तो नहीं होगी । सवाल का जवाब देते ही पूर्व अध्‍यक्ष ने कहा, “फेडरेशन खेल देखेगा तब बतायेगा की आगे क्या होगा . यह पहलवानों की ओर से पहले की गई गलतियों पर ध्यान देगा.

सांसद बृजभूषण शरण सिंह के करीबी को कुश्ती महासंघ का अध्यक्ष चुना गया तो पहलवान साक्षी मलिक, विनेश फोगाट और बजरंग पुनिया ने कहा- हमें न्याय नहीं मिला और हमे जबतक न्याय नही मिलता है तब तक हम नही मानेंगे डब्ल्यूएफआई का अध्यक्ष चुने जाने पर संजय सिंह ने कहा कि यह श्रेय उन हजारों पहलवानों की जाता है, जिन्हें बीते कुछ महीनों में नुकसान हुआ और बाकि लोगो का क्या होगा ।

बृजभूषण सिंह शरण पर थे ये आरोप

बृजभूषण सिंह शरण पर यही सभी आरोप लगाए गए है कुछ इस प्रकार है
18 जनवरी को भारतीय कुश्ती के तीन बड़े पहलवान बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक और बबीता फोगाट ने बृजभूषण सिंह के खिलाफ जंतर एव मंतर पर धरना शुरू किया था। और उनके साथ उनके और भी कई दोस्त थे जो की उनके साथ ही खड़े थे पहलवानों ने उसे समय से कुश्ती महासंघ अध्यक्ष खिलाफ यौन उत्प्रेरण और छेड़छाड़ के आरोप लगाए थे।

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ मुलाकात के बाद एक पहलवान ने की जनवरी को दिन धरना खत्म कर दिया। जो की गलत हुआ बृजभूषण सिंह के लगे आरोप की जांच के लिए कई कमिटी बैठाई गई थी जिसके बाद भी कुछ भी उनके हाथ जानकारी नही लगी समिति ने अप्रैल में अपनी रिपोर्ट दी, लेकिन इसे सार्वजनिक नहीं किया गया। इस बीच खबरें आई की बृजभूषण सिंह निर्दोष पाए गए और 27 अप्रैल को पहलवान दूसरी बार धरना पर बैठ गए पहलवानों में जंतर एव मंतर ने अपना अंडा बना लिया और दिन-रात धरना जारी रखा गया था पर उससे भी बहुत काफी मदद नही मिली थी साक्षी मालिक को।

Dunki Box Office Collection: शाहरुख खान की डंकी ने बॉक्स ऑफिस पर मचाया तहलका

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment